Categories DISTRIBUTION NEWSHindi NewsNEEDY FAMILIES

गोयम एवं शाही लिबास परिवार ने सांझ विंटर वाम प्रोजेक्ट के अंतर्गत 100 से ज्यादा जरूरतमंदों को दी डबलबेड रजाइया और लोहड़ी का समान, राकेश जैन

 चढ़त पंजाब दी,
लुधियाना, (सत पाल  सोनी) : भगवान महावीर सेवा संस्थान रजिस्टर्ड लुधियाना की ओर से नव वर्ष की पावन बेला के उपलक्ष में एक सामाजिक कार्यक्रम का आयोजन, सिविल लाइन, जैन स्थानक में सांझ लुधियाना पुलिस कमिश्नरेट विंटर वार्म प्रोजेक्ट के अंतर्गत डॉ प्रज्ञा जैन, आई पी एस ,{एडिशनल डिप्टी कमिश्नर पुलिस} के साथ आयोजित किया गया।
सर्वप्रथम सामूहिक महामंत्र नवकार के उच्चारण के बाद संस्थान के अध्यक्ष राकेश जैन ने बताया आज का आयोजन हमारे लुधियाना के दो प्रसिद्ध औद्योगिक घराने गोयम स्क्रू प्रेस के संस्थापक स्वर्गीय सतपाल जैन  की पुण्य स्मृति पर धर्मपत्नी कांता देवी जैन,दानवीर विनोद जैन, आशी जैन , गोयम जैन, विभोर जैन एवं शाही लिबास के संस्थापक एवं प्रसिद्ध उद्योगपति फूल चंद जैन, त्रिशला देवी जैन, प्रवीन जैन, मीनू जैन, नितिन जैन, समार्टीन एवं गुप्तदानी परिवार के सहयोग से 100 से ज्यादा परिवारों को डबलबेड की रजाइया ,मूंगफली, रेवड़ी, आदि अन्य वितरण की गई ।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ प्रज्ञा जैन ने बताया संस्थान पिछले कई वर्षों से सामाजिक कार्य के लिए अपनी सक्रिय भूमिका अदाकार अपने पुण्य का उपार्जन तो कर ही रहा है लेकिन जरूरतमंद को उसकी जरूरत अनुसार समय अनुसार सहयोग करना एक अच्छी कार्य शैली का परिचय है। इस मौके पर संस्थान एवं महिला शाखा की ओर से डॉ प्रज्ञा जैन को उनकी समाजिक कार्यशैली को देखते हुए विशेष सम्मान भी किया गया। इस मौके पर बहुत से पुलिस अधिकारी एवं भगवान महावीर सेवा संस्थान के अध्यक्ष राकेश जैन ,उपाध्यक्ष राजेश जैन, सहमंत्री सुनील गुप्ता ,रमा जैन, आदर्श जैन , नीलम जैन, रीचा जैन, शुभ लता जैन, रजनी विनोद देवी सुराणा जैन, रेनू जैन ,नेहा सिंधी, सविता जैन आदि अन्य उपस्थित थे। 

 

98070cookie-checkगोयम एवं शाही लिबास परिवार ने सांझ विंटर वाम प्रोजेक्ट के अंतर्गत 100 से ज्यादा जरूरतमंदों को दी डबलबेड रजाइया और लोहड़ी का समान, राकेश जैन

About the author

DISCLAIMER: Charhat Punjab di: Editor does not takes responsibility for any news/video/article published, only Reporter/Writer will be responsible for his/her news or article. Any dispute if arrises shall be settled at Ludhiana jurisdiction only. Sat Pal Soni (Editor)